Swayam me anekon kamiyan hone ke bavjood mai apne aap se itna pyaar kar sakta hun

to fir doosron me thodi bahut kamiyon ko dekhkar unse ghrina kaisi kar sakta hun-

anmol vachan, Swami Vivekanand Ji


Saturday, 21 February 2015

Shri Durga Chalisa .


 
     Namo Namo Durge Sukhkarni , Namo Namo Ambe Dukhharni.
 
    Nirankar hai Jyoti tumhari, Tihun Lok Faili ujiari .
 
       Shashi lalaat mukh maha vishala ,Netra Lal  bhrikuti  vikarala

       Roop Mat ko Adhik suhave , Daras karat jan ati sukh pave  .

      Tum  Sansar Shakti  lau kina,  Palan hetu Ann dhan  dina .

      Annapurna  hui jag pala , Tumhi  Aadi Sundari  Bala  .

       pralaykal  Sab  Nashan Hari , Tum  Gauri  Shiv Shankar pyari

       Shiv yogi tumhre Yash gave ,  Brahma Vishnu tumhe nit dhyave .

       Roop Saraswati ko Tum Dhara , De Subuddhi Rishi Munin ubara .

        Dharo Roop Narsingh ko Amba , Pragat  bhaye faar Kar Khamba  .

       Raksha Kar Prahlad bachayo.  Hiranyaksh ko swarg pathayo .

        Lakshmi Roop dharo jag Mahi , Shri Narayan ang samahi  .

      Ksheer Sindhu men karat Vilasa ,  Dayasindhu dijay man asha .

      Hinglaj men Tumhi Bhawani , Mahima Amit n Jaat  bakhani. .

      Matangi   Ghumavati  Mata. ,  Bhuvaneshwari Bagla sukhdata  .

     Shri Bhairav Tara Jag Tarini ,   kshinnbhal bhav Dukh Nivarini  .

       Kehrivahan soyi Bhawani ,  Langar veer chalat  agwani  .

        Kar men khappar Kharag viraaje ,  Jako Dekh kaal Dar bhaje  .

        Sohai Astra aurTrishula ,    Jate uthat Shatru hiya Shula. .

        Nagar koti  men tuhi Virajat ,  Tihun Lok  men danka Bajat.

         Shumbh Nishumbh danav Tum mare ,  Rakt beej shankhan sanghare .

        Mahisasur Nrip ati abhimani ,  jehi agh Bhar Mahi akulani. .

         Roop Karal  Kali ko Dhara ,  Sen Sahit Tum tihi sanghare. .

          Pari Garh santan par jab jab , Bhayi Sahai  Matu Tum tab tab .

         Amar puri auro Sab Loka ,  Tav Mahima Sab rahe Ashoka. .

          Bala men hai Jyoti tumhari ,  Tumhe sada Pooje  Nar Nari .

            Prem Bhakti se Jo jas gave , Dukhh  daridra nikat nahi aave . 

             Dhyave tumhe Jo Nar man layi , Janm maran takao chuti. Jayee .

           Jogi sur Muni kahat pukari , yog Na ho bin Shakti tumhari  .

           Shankar aacharaj Tap kino ,  Kamroo krodh Jeet Sab Lino .
     
           Nishidin dhyan dharo Sankar ko , Kahu kal nahi Sumirau tumko .
  
             Shakti Roop ko maram n payo ,Shakti gayer Tav man pachhtayo .

              Sharanagat huyee Kirti bakhani ,  Jai Jai Jai Jagdambe Bhawani .

              Bhayee Prasann Aadi Jagdamba ,  Dayee Shakti nahi kinn vilamba .

              Mo ko Mat Kasht ati ghero.  Tum vin kaun hare Dukhh mero.

              Asha Trishna nipat satavai ,   Ripu murakh Mohi ati Dar pavai

               Shatru Nash kejay Maharani ,  Sumiraun ikchit tumhe Bhawani .

               Karau Kripa he Matu dayala ,    Riddhi Sidhhi de Karhu Nihala .

                Jab lagi jiyaun Daya phal paun , Tumharau  Jas Mai sada Sunaun .

                 Durga Chalisa Jo koi gave ,Sab sukh bhog param pad pave .

                  Devi Das sharan nij jani ,   Karhun Kripa Jagdamb Bhawani .
           

            
              
                
        

Wednesday, 18 February 2015

Prabhu Jee Mero Avgun Chit Na Dharo.(प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ( राम जी का भजन । )


       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ....२
       समदर्शी है नाम तुम्हारो , नाम की लाज धरो।
       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो ..............

      एक नदियाँ एक नार, कहावत, मैंलो नीर भरो ।
      दोनों मिल जब एक वरण भइ ,
      सुरसरी नाम पड़ो ।
      प्रभु जी मेंरो .................................

      एक लोहा पूजा में राखत, एक घर बधिक पड़ो।
      यह दुविधा पारस नहीं जानत, 
      कंचन करत खरो ।
      प्रभु जी मेंरो अवगुण.........................

       यह माया भ्रम जाल कहावत, सूरदास सगरो ।
       अबकी बार मोहे पार उतारो,
       नहीं प्रण जात टरो ।
       
       प्रभु जी मेंरो अवगुण चित न धरो।
       समदर्शी है नाम तुम्हारो, नाम की लाज धरो ।
       प्रभु जी मेंरो............................



             
               


Sunday, 15 February 2015

Shri Krishna Stuti . (श्री कृष्ण स्तुति )।

      हे कृष्ण  करूणासिंधो दीनबंधो जगत्पते। ।
      गोपेश गोपिकाकाकान्त राधाकान्त नमोस्तुते ।।

  (  हे कृष्ण ! आप दुखियों के सखा तथा सृष्टि के उदगम हैं। आप गोपियों के  स्वामी तथा राधारानी के प्रेमी हैं। मैं आपको सादर प्रणाम करता हूँ  ।)


        तप्तकांचन गौरांगि राधे वृन्दावनेश्वरी ।
         वृषभानु सुते देवि प्रणमामि हरि प्रिये ।।


(मैं उन राधा रानी को प्रणाम करता हूँ जिनकी शारीरिक कांति पिघले सोने के सदृश है,

जो वृन्दावन की महारानी हैं। राजा वृषभानु की पुत्री हैं और भगवान कृष्ण को अत्यन्त प्रिय हैं।)
 

        श्री कृष्ण - चैतन्य प्रभू-नित्यानंद ।
       श्री अद्वैत गदाधर श्री वासादि गौर भक्तवृन्द ।।

   ( श्री कृष्ण चैतन्य, प्रभु नित्यानंद , श्री अद्वैत गदाधर , श्रीवास आदि समस्त
     भक्तों को सादर प्रणाम करता हूँ । )
 
       वान्छा कल्पतरूभ्यश्च कृपासिन्धुभ्य एव च  ।
        पतितानां पावनेभ्यो वैष्णवेभ्यो नमो नम: ।।

     ( मैं भगवान के समस्त वैष्णव भक्तों को सादर नमस्कार करता हूँ ।
        वे कल्पवृक्ष के समान सबों की इच्छाएँ पूर्ण करने में समर्थ हैं, तथा
         पतित जीवात्माओं के प्रति अत्यंत दयालु हैं। )
   

       हरे कृष्ण  हरे कृष्ण  कृष्ण कृष्ण हरे हरे ।
       हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे ।।


               

सजन सुधि ज्यों जाने त्यों लीजै (मीरा जी के पद)

 सजन सुधि ज्यों जाने त्यों लीजै।  
 तुम बिन मेंरे और न कोई , कृपा रावरी कीजै ।।
                       
 धौंस न भूष रैन नहिं निद्रा , यह तन पल - पल छीजै । 
 मीरा के प्रभु गिरिधर नागर ,अब मिलि बिछुरनि नहिं कीजै।।
  



                 
                   

Rai Shri Ranchhor Deejo Dwarika Ko Bas.(राय श्री रनछोड़ दीजो द्वारिका को बास) (मीरा जी के पद )

                               
    
                              राय श्री रनछोड़ दीजो द्वारिका को बास ।

                             संख। चक्र  गदा। पद्म  दरसें  मिटे  जम। को त्रास ।।

                           सकल। तीरथ। गोमती। के। रहत। नित। निवास  ।

                            संख। झालर झाँझ  बाजै। सदा  सुष। की। रास  ।।

                            तजियो।  देसरू बेसह  तजि तजियो राना राज। 

                            दास  मीरा सरन आबे  तुम्हें  अब सब लाज। ।

Saturday, 14 February 2015

Hari HariHo Jan Ki Peer.(हरि हरिहो जन की भीर ) (मीरा बाइ जी के पद )।



           
          हरि हरिहो जन की भीर ।
           द्रौपदी की लाज राखी,  तुम बढ़ायो चीर ।।
          भक्त कारन रूप नरसिंह धरयो आप सरीर ।
           हरिनकस्यप मारि लीनौं धरयो नाहिन धीर ।।
            बूड्ते गज ग्राह तारयो कियो बाहर नीर ।
               दास मीरा लाल गिरिधर दुष जहाँ तहाँ पीड़ ।।

Meera Hari Ki Larli, Bhagat Mili Bharpoor.(मीरा हरि की लाड्ली ) (मीरा बाइ जी के पद )।

          मीरा हरि की लाड़ली, भगत मिली भरपूर ।
           सांधा सूँ सनमुष रही, पापी सूं अति दूर ।।

          राना विष ताकौं दियो, पियो लै हरि नाम।
           रातों कीनो भगत मुष, राखो नहिं भव काम ।।

            जेठ कह्यो , देवर कह्यो, सास ननद समझाय।
             मीरा महलन तज दियो , गोविन्द को गुन गाय ।।

            पुष्कर नहाइ मगन मन, वृंदावन रसषेत।
           गई द्वारिका  अंत में, श्री रनछोर निकेत ।।

             मेड्तनी के मन रही, एकै गिरिधर रेह ।
              रोम रोम में रमि रह्यो, ज्यों  बदरि जल मेह ।।

              कान्हा चरणन में पड़ी,  और न मोय सुहाय ।
               कुँवरी दासी कृष्ण री,  दर्शन दीजो आय ।।

Friday, 13 February 2015

Teri Marji ka Mai Hoo Gulam.तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम (राम जी का भजन )

तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम,  मेंरे अलबेले राम,
मेंरे अलबेले राम, मेंरे अलबेले राम,
तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम...............................

    जो भी कराल हूँ सब तुम पर निछावर , -२
  दौलत मेरी तेरा नाम, मेंरे अलबेले राम
तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम......................

         थक भी गया हूँ मैं, लंबे सफ़र में।   २
         मेंरा जीना हुआ है हराम, मेंरे अलबेले राम
         तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम.......................

             तेरी रजा में अब कर ली है राजी २
             हमें दे दो, सजा या इनाम , मेंरे अलबेले राम।
              तेरी मर्ज़ी का मैं हूँ गुलाम ........................

Kailash Ke nivasi Namo Bar Bar Hoo.कैलाश के निवासी नमों बार- बार हूँ । (शिवजी का भजन )

कैलाश के निवासी नमों बार -बार हूँ,
आयो शरण तिहारी , भोले तारो-तारो तुम।
 कैलाश के निवासी .......................

            भक्तों को कभी तूने शिव निराश न किया,
             माँगा जिन्होंने जो भी बरदान दे दिया,
            बड़ा ही तेरा दायजा, बड़े दातार तुम,
            आयो शरण तिहारी ,भोले तारो तारो तुम।


                बखान क्या करूँ मैं राखों के ढेर का,
                 तपती भभूत में है,खजाना कुबेर का,
                  है गंग धार ,मुक्तिद्वार ,औंकार तुम,
                   आयो शरण तुम्हारी, भोले तारो-तारो तुम।

                  क्या -क्या नहीं दिया हमें, हम क्या प्रमाण दें,
                   बस गये हैं त्रिलोक, शंभू तेरे दान से,
                  ज़हर पिया,जीवन दिया,कितने उदार तुम,
                 आयो शरण तिहारी भोले तारो-तारो तुम।

                  तेरी कृपा बिना न हिले, एक भी अणु,
                   लेते हैं श्वास तेरी दया से तनू -तनू,
                   कहे दास एक बार ,मुझको निहारो तुम,
                  आयो शरण तिहारी, भोले तारो-तारो तुम। 
                   कैलाश के निवासी, नमो नमो बार- बार हूँ,
                 आयो शरण तिहारी..............................


              

Thursday, 12 February 2015

Jai Jai Girivar Raj Kishori.जय जय गिरिवर राज किशोरी ( सीता जी द्वारा पार्वती जी की स्तुति )

जय -जय गिरिवर राज किशोरी । जय महेश मुख चन्द चकोरी।।
जय गजबदन षडाननमाता ।जगत जननी दामिनी दुति गाता।।

नहिं तव आदि मध्य अवसाना । अमित प्रभाउ बेदु नहिं जाना।।
भव भव विभव पराभव कारिनि। विश्व बिमोहनि स्वबस बिहारिनि।।

पति देवता सुतीय महुँ    मातु प्रथम  तव रेख।
महिमा अमित न सकहिं कहि   सहस्  सारदा सेष।।

सेवत तोहि सुलभ फल चारी।बरदायनी पुरारी पिआरी।।
 देबि पूजि पद कमल तुम्हारे ।सुर नर मुनि सब होहिं सुखारे।।

मोर मनोरथु जानहु नीकें। बसहु सदा उर पुर सबहीं के ।।
कीन्हेऊँ प्रगट न कारन तेहीं।अस कहि चरन गहे बैदेही ।।
 
बिनय प्रेम बस भई भवानी । खसी माल मूरति मुसकानी ।।
सादर सियँ प्रसादु सिर धरेऊ। बोली गौरि हरषु हियँ भरेऊ ।।

सुनु सिय सत्य असीस हमारी । पूजिहिं मनकामना तुम्हारी ।।
नारद बचन सदा सुचि साचा । सो बरू मिलिहि जाहिं मनु राचा ।।

मनु जाहिं  राचेउ मिलिहि सो बरू सहज सुंदर साँवरो ।
    करुना निधान सुजान सीलु सनेह जानत रावरो ।।

एहि भाँति गौरि असीस सुनि सिय सहित हियँ हरषीं अली ।
  तुलसी भवानिहि पूजि पुनि  पुनि मुदित मन मंदिर चली ।।

  जानि गौरि अनुकूल सिय हिय हरषु न जाय कहि ।
     मंजुल मंगल मूल बाम अंग फरकन लगे ।। 

Wednesday, 11 February 2015

Dan Ka Mahatwa .(दान का महत्व ) ।

         हर इन्सान को अपने आय का कुछ हिस्सा दान धर्म में लगाना चाहिये।
         हिन्दू शास्त्रो में आय का दशमा हिस्सा धर्म कार्य में लगाने का विधान है।
       
             दान देते समय मन में ये भाव होना चाहिये, कि जो मैं दान दे रहा हूँ,
             ये सब कुछ ईश्वर का है, मैं निमित्त मात्र हूँ ,तो मन में अभिमान नहीं होगा।
             उन पर ईश्वर की भी कृपा होगी,उनके घर में धन की भी कभी कमी नहीं होती है।
     

            इसी संदर्भ में एक कहानी है,   एक भक्त अपनी आय का दशमा हिस्सा
           सदैव दान में लगाता था, ग़रीबों में भोजन तथा वस्त्र बाँटता था,लेकिन
            बाँटते समय उसकी नजरें सदैव झुकी रहती थी।उसे ऐसा करते देखकर,
         ईश्वर एक दिन साधू रूप में उस भक्त के घर भिक्षा माँगने पहुँचे,उस भक्त ने
         फिर नज़रें नीची कर भगवान को भी भिक्षा दे दिया।भगवान ने पूछा, वत्स
        ये चतुराई तुमनें कहाँ से सीखा? भिक्षा देते समय तो सभी की नज़रें उपर
       होती है ,तुम नीची नज़रें किये सब को दान क्यों दे रहे हो? उस भक्त ने
     बड़ा ही ख़ूबसूरत जवाब देते हुए कहा,महात्मा जी धन देने बाला तो
       भगवान है, मैं उन्हीं के दिये हुए धन का कुछ हिस्सा लोगों में बाँट रहा हूँ,
       और लोग मेरी जय -जयकार कर रहे हैं, इसलिये मेरी नज़रें झुकी जा रही है।
       भगवान भक्त के उत्तर से प्रसन्न हो गए।उन्होंने असली रूप प्रकट कर भक्त को
        दर्शन दिये तथा अपने हृदय से लगा लिया।
           
            

Tuesday, 10 February 2015

Anmol Vachan (अनमोल वचन ) ।

स्वयं में अनेकों कमियाँ होने के बावजूद , मैं अपने अाप से इतना प्यार कर सकता हूँ,
तो फिर दूसरों में थोड़ी बहुत कमियाँ को देखकर, उनसे घृणा कैसे कर सकता हूँ।
                                                                        - स्वामी विवेकानन्द जी

Monday, 9 February 2015

Ab Saup Diya Is Jeevan Ka.(अब सौंप दिया इस जीवन का)

अब सौंप  दिया इस जीवन का
सब भार तुम्हारे हाथों में
मेरी जीत,तुम्हारे हाथों मे
और हार तुम्हारे हाथों में ।


         
                 मेरा निश्चय  बस एक यही
                 एक बार तुम्हें पा जाऊँ मैं
                   अर्पण कर दूँ दुनिया भर का
                    सब प्यार तुम्हारे हाथों में ।
         अब सौंप दिया इस जीवन का..................
      


               ज्यों जग में रहूँ तो ऐसे रहूँ
               ज्यों जल मे कमल का फूल रहे
               मेंरे गुण और दोष समर्पित हो
                मेरे नाथ तुम्हारे हाथों में ।
अब सौंप दिया इस जीवन का........................
             

         
                जयों मानव का ही जन्म मिले
                 तो तेरे चरणों का दास बनूँ
              इस दास के रग-रग का हो
                एक तार तुम्हारे हाथों में ।
       
   अब सौंप दिया इस जीवन का...........................
     


              मुझमें तुझमें बस भेद यही
                मैं नर हूँ तुम नारायण हो          
              मैं हूँ संसार के हाथों
                संसार तुम्हारे हाथो में ।
                           
अब सौंप दिया इस जीवन का सब भार तुम्हारे हाथो में...............

          

Om Namah Shivaya.ओम् नम: शिवाय (भजन)

ओम् नम: शिवाय ओम् नम: शिवाय,
     साँसों की सरगम पे धड़कन ये दोहराय
 ओम्  नम: शिवाय, ओम् नम:शिवाय
                  

      जीवन में कैसा अँधेरा हुआ है, 
     संदेह ने मुझको घेरा हुआ है २
     मन पंछी आज बहुत ही घबराय
      ओम् नम: शिवाय।  ओम् नम:शिवाय


     विश्वास की माला टूटी पड़ी है ,  
     भगवन सहारा दे मुश्किल घड़ी है, 
        राह दिखाना अब तेरी मर्ज़ी है,
       ओम् नम: शिवाय , ओम् नम: शिवाय
     
        साँसों की सरगम पे दिल मेंरा दोहराय,
       ओम् नम:शिवाय, ओम् नम:शिवाय।


              

Thursday, 5 February 2015

Chandra Bhaal Shobhitam

Shiv shiv shiv shiv he
Shiv shiv shiv shiv he
Shiv shiv shiv shiv he...

Chandra Bhaal shobhitam,
Gal bhujang bhushnam,
He Shivam mahashivam,
Shiv akhand dayakam.

Gaur ja tapasvini ange sang dolti,
Bhakti shiv aru Shakti ke Mukti dwar Kholti,
Bhoot pret sevitam he prabhu trilochnam,
He Shivam mahashivam ,shiv akhand dayakam.

Shool paani,damru paani shambhu aadi naam hai,
Sambhu aadi naam hai,
He anadi, he swambhu,koti seh Pranaam hai,
Vishwanath ishwaram,Gauri naath shankaram,
He shivam mahashivam,shiv akhand dayakam.

Chandra Bhaal shobhitam,
Gal bhujang bhushnam,
He Shivam mahashivam,
Shiv akhand dayakam.


Jai shiv Omkara


Jai shiv Omkara, swami har shiv Omkara,
Brahma Vishnu sada shiv ardhangi dhaara,
Jai shiv Omkara....

Ekanan chaturanan panchanan Raje,
Hansanan garurasan vrishvahan saje,
Om Jai shiv Omkara...

Akshmala Banmala mundmala Dhari,
Tripurari kansari karmala dhari,
Om Jai shiv Omkara...

Swetambar pitambar Baghambar ange,
Sankadik garuradik bhootadik sange,
Om Jai shiv Omkara...

Do Bhuj char chaturbhuj Das Bhuj ati sohe,
Tino lok nirakhte tribhuvan man mohe,
Om Jai shiv Omkara..

Brahma Vishnu sadashiv Janet aviveka,
Pranvakshar ke madhye ye tino eka,
Om Jai shiv Omkara...

Trigun shiv ji  ki aarti Jo koi nar gave,
Kehat shivanand swami man vaanchit fal pave,
Om Jai shiv Omkara...


Wednesday, 4 February 2015

Sri Ram Bhajan - Jai Jai Surnayak

Jai Jai Surnayak, jan sukhdayak,
Pranatpaal bhagavanta.
Go-dwij hitkaari , Jai asuraari,
Sindhusuta priyakanta.

Paalan surdharani, adhbhutt karani,
Maram naa jaane koi.
Jo sahaj kripaala, deendayala,
Karahun anugraha soi.


Jai Jai avinashi, Sab ghat vaasi,
Vyapak parmananda.
Avigatt gotitam, charita puneetam,
Maya rahitt mukunda .

Jehi laagi viraagi, ati anuraagi,
Vigat moh muni vrindaa.
Nishivasar dhyavahin,gun gann gavahin,
Jayati sacchidananda.

Jehi srishti upaayi, trividdh banayi,
Sangh sahaya na dooja.
So karahin aaghari, chinta hamari,
Jaaniye bhakti naa Pooja.

Jo bhav bhaya bhanjan, muni manoranjan,
Ganjan vipati varutha.
Man vach kram vaani , chaaDi sayaani,
Sharan Sakal sur jootha.

Saarad shruti seysha, rishaya aseysha,
Jaakahun koi nahi jaana,
Jehi deen piyaarey, Ved pukaarey,
Dravahun so sri bhagavana.

Bhav vaaridhi mandar, Sab bidhi sundar,
Gun mandir, sukh punja.
Muni siddha sakal sur param bhayatur,
Namat nath pad kanja.

Shlok:

Jaani sabhaya sur bhoomi suni,
Bachan samet saneh.
Gagan gira gambheer bhayee,


Monday, 2 February 2015

Tere Dar Ko Chhorkar Kis Dar Jaoo Mai.तेरे दर को छोड़ के किस दर जाऊँ मैं।

तेरे दर को छोड़ के किस दर जाऊँ मैं,
देख लिया मैंने जग सारा,
तेरे जैसा मीत नहीं,
तेरे जैसा सबल सहारा,
तेरे जैसी प्रीत नहीं ।
किन शब्दों में आपकी,
महिमा गाऊँ मैं ।
तेरे दर को छोड़ के किस दर जाऊँ मैं ....

अपनें पथ पर आप चलूँ मैं,
मुझमें इतना ज्ञान नहीं,
हूँ मतिमंद, नयन का अँधा,
भले बुरे की पहचान नहीं ।
हाथ पकड़ कर ले चलो,
ठोकर खाऊँ मैं ।
तेरे दर को छोड़ के किस दर जाऊँ मैं ...







Reference:
Hari Om Sharan

Santo Ki Vani Pad(पद - संतो की वाणी)



1. जब तक रहेगी ज़िन्दगी ,फ़ुरसत न होगी काम से।
    कुछ समय ऐसा निकालो ,प्रेम हो भगवान से।

2. साई इतना दीजिये ,जा में कुटुंब समाय।
    मैं भी भूखा ना रहूँ ,साधु न भूखा जाय।

3. जो आता है सबके काम,
    उसका जीना सफल तमाम।

4. राम नाम लड्डू ,गोपाल नाम घी।
    हरि नाम मिश्री , घोर घोर ।

5. राम नाम के हीरे मोती,मैं  बिखराऊं गली गली।
    ले लो रे कोइ राम का प्यारा,शोर मचाऊं गली गली।

6. दुनिया के रंग क्या देखूँ  ,तेरा दीदार काफी है।
    करूँ मैं प्यार किस किस से,तेरा इक प्यार काफी है।