Swayam me anekon kamiyan hone ke bavjood mai apne aap se itna pyaar kar sakta hun

to fir doosron me thodi bahut kamiyon ko dekhkar unse ghrina kaisi kar sakta hun-

anmol vachan, Swami Vivekanand Ji


Wednesday, 29 July 2015

Milta Hai Sachha Sukh Keval Data Tumhare Charano Me.

     मिलता है सच्चा सुख केवल, दाता तुम्हारे चरणों में ।
     विनती है यह पल-पल क्षण-क्षण, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में।।
      चाहे   वैरी  कुल  संसार  बने  , चाहे जीवन मेरा  भार बने ।
       चाहे मौत गले का हार बने  ,  रहे  ध्यान तुम्हारे चरणों में।।
       चाहे काँटों में मुझे चलना हो,  चाहे अग्नि में मुझे जलना हो  ।
      चाहे छोड़ के देश निकलना हो,  रहे ध्यान सदा तेरे चरणों में  ।।
       चाहे  कष्टों ने  मुझे घेरा हो  ,  चाहे   चारों  ओर  अँधेरा  हो  ।
       पर  चित्त न  मेरा डगमग हो ,  रहे  ध्यान  तुम्हारे  चरणों  में  ।।
       मेरी जिह्वा पर तेरा नाम रहे ,   तेरी याद सुबह और  शाम रहे  ।
        यह काम  तो आठों याम रहे , रहे  ध्यान  तुम्हारे  चरणों  में  ।।
        मिलता है सच्चा सुख केवल ,   दाता  तुम्हारे   चरणों  में   ।।
      
      

Wednesday, 22 July 2015

Shri Shivashatak ( शिवाष्टक )



आदि    अनादि    अनन्त , अखण्ड  अभेद   सुवेद    बतावैं ।
   अलख  अगोचर  रूप  महेश कौ,  जोगी जती-मुनि ध्यान न पावैं।।
   आगम-    निगम-   पुरान    सबैं , इतिहास सदा जिनके गुन गावैं ।
    बड़भागी नर  - नारी  सोई  , जो सांब- सदाशिव  कौं  नित ध्यावैं।।  

    सृजन , सुपालन  लय लीलाहित, जो  विधि-हरि   हररूप  बनावैं ।
    एकहि    आप    विचित्र   अनेक, सुवेष  बनाइकें  लीला  रचावैं ।।
   सुन्दर    सृष्टि  सुपालन   करि , जग पुनि बन काल जु खाय पचावैं।
   बड़भागी  नर- नारी  सोई  जो ,  सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अगुन   अनीह   अनामय  अज , अविकार सहज  निज  रूप धरावैं ।
      परम   सुरम्य  बसन- आभूषण , सजि  मुनि-मोहन  रूप   करावैं  ।।
      ललित     ललाट   बाल  बिधु ,  विलसै , रतन-हार  उर  पै लहरावैं ।
      बड़भागी     नर-नारी  सोई  जो , सांब -सदाशिव  कौं  नित  ध्यावैं ।।

      अंग  विभूति  रमाय  मसान  की ,  विषमय  भुजंगमनि  को  लपटावैं ।
      नर-कपाल  कर  मुण्डमाल  गल,   भालु -चर्म   सब   अंग    उढ़ावैं  ।।
      घोर     दिगम्बर ,   लोचन   तीन , भयानक  देखि  कैं   सब   थर्रावैं ।
      बड़भागी     नर -नारी    सोई  जो,  सांब -सदाशिव    कौं   नित  ध्यावैं।।

       सुनतहि   दीन   की   दीन   पुकार ,  दयानिधि  आप    उबारन    आवैं  ।
        पहुँच   तहाँ    अविलम्ब   सुदारुन ,  मृत्यु   को   मर्म   बिदारि  भगावैं  ।।
        मुनि   मृकंडु- सुत   की    गाथा  सुचि,  अजहु   विज्ञजन  गाइ   सुनावैं ।
       बड़भागी    नर-नारी     सोई      जो    ,  साँब    सदाशिव   कौं  नित ध्यावैं ।।

         चाउर  चारि  जो  फूल  धतूर   के  , बेल  के  पात ,  और  पानी  चढ़ावैं ।
         गाल    बजाय  कैं    बोल  जो  , ' हरहर महादेव '  धुनि  जोर  लगावैं ।।
        तिनहिं   महाफल   देय  सदाशिव,   सहजहि    भुक्ति - मुक्ति  सो  पावैं   ।
         बड़भागी   नर - नारी   सोई   जो ,  सांब - सदाशिव   कौं  नित  ध्यावैं  ।।

        बिनसि    दोष    दु:ख   दुरित  दैन्य,  दारिद्रयं   नित्य  सुख - शांति  मिलावैं।
        आशुतोष   हर    पाप - ताप   सब ,    निर्मल     बुद्धि - चित     बकसावैं  ।।
        असरन - सरन     काटि     भवबन्धन ,   भव   जिन    भवन   भव्य   बुलवावैं ।
        बड़भागी      नर - नारी   सोई   जो  ,  सांब - सदाशिव   कौं   नित  ध्यावैं  ।।

         ओढरदानी ,    उदार     अपार     जु ,   नैक - सी    सेवा  तें    ढुरि    जावैं ।
         दमन     अशांति  ,    समन   संकट ,  बिरद   विचार     जनहिं      अपनावैं ।।
         ऐसे    कृपालु     कृपामय    देव   के ,  क्यों   न   सरन    अबहीं  चलि  जावैं ।
         बड़भागी    नर - नारी     सोई      जो ,   सांब - सदाशिव     कौं   नित   ध्यावैं।।

  
    
    

Monday, 20 July 2015

Dwadash Jyotirlings (शिवजी के बारह ज्योतिर्लिंग )

     सौराष्ट्रे  सोमनाथं  च   श्रीशैले  मल्लिकार्जुनम् ।
        उज्जयिन्यां        महाकालमोंकारममलेश्वरम् ।।
       परल्यां   वैद्यनाथं  च  डाकिन्यां   भीमशंकरम् ।
       सेतुबन्धे   तु     रामेशं   नागेशं   दारुकावने   ।।
       वाराणस्यां   तु   विश्वेशं  त्र्यम्बकं   गौतमी तटे ।
       हिमालये   तु   केदारं   घुश्मेशं  च   शिवालये ।।
       एतानि   ज्योतिर्लिंगानि  सायं  प्रात:   पठेन्नर:  ।
       सप्तजन्मकृतं     पापं     स्मरणेन     विनश्यति  ।।

           ( १)   श्री  सोमनाथ मंदिर --गुजरात के सौराष्ट्र प्रदेश  ( काठियावाड़ ) में  विराजमान  हैं।

             (२)  श्री  मल्लिकार्जुन मंदिर-श्री  शैल  पर्वत पर , जिसे दक्षिन का कैलाश कहते हैं।यह आन्ध्रप्रदेश में हैं।

              (३)  श्री  महाकालेश्वर मंदिर--- श्री महाकालेश्वर मंदिर क्षिप्रा नदी के तट पर उज्जैन नगर में विराजमान हैं।

              (४ ) ओंकारेश्वर  तथा अमलेश्वर मंदिर--- यह  ज्योतिलिंग भी उज्जैन में ही विराजमान  हैं। ओंकारेश्वर तथा अमलेश्वर  एक ही लिंग के दो पृथक पृथक लिंग स्वरूप हैं।

               ( ५)  वैद्यनाथ मंदिर -------इस मंदिर के बारे मे लोगों के मत भिन्न भिन्न हैं। कुछ लोग हैदराबाद के परलीग्राम में श्री वैद्यनाथ   नामक  ज्योतिर्लिंग को बताते हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है, कि जसीडीह स्टेशन (जो अब झारखंड के अन्तर्गत है ) के पास श्री वैद्यनाथ मंदिर ही वास्तविक ज्योतिर्लिंग हैं।

                   ( ६ ) श्री भीमशंकर मंदिर------  यह मंदिर  नासिक से लगभग १२० मील दूर महाराष्ट्र में बिराजमान हैं।

                     ( ७ ) सेतुबन्ध पर  श्री रामेश्वर मंदिर----यह मंदिर तमिलनाडु में हैं।

                      ( ८ )श्री नागेश्वर मंदिर-------दारुकावन में  श्री नागेश्वर मंदिर हैं। नागेश्वर मंदिर के बारे में भी लोगों के मत अलग-अलग है।कुछ लोग द्वारिका के नागेश्वर मंदिर को बताते हैं तो कुछ का कहना है कि महाराष्ट्र में जागेश्वर मंदिर हैं वहीं नागेश्वर ज्योतिलिंग मंदिर हैं।

                        ( ९ ) श्री विश्वनाथ मंदिर------वाराणसी ( काशी ) में श्री विश्वनाथ मंदिर हैं।

                       ( १० ) श्री त्रयम्बकेश्वर मंदिर-----नासिक में पंचवटी से १८ मील की दूरी पर ब्रह्मगिरि के निकट गोदावरी के किनारे महाराष्ट्र में हैं।

                      (   ११ ) केदारनाथ मंदिर------ हिमालय पर केदार नामक श्रृंग पर स्थित हैं श्री केदारनाथ मंदिर जो उत्तराखंड में हैं।

                         ( १२ ) श्री घुश्मेश्वर मंदिर--- श्री घुश्मेश्वर को घुसृणेश्वर मंदिर भी कहा जाता है। यह शिवालय में स्थित है। यह ज्योतिलिंग मंदिर औरंगाबाद , महाराष्ट्र मेंहैं।

                           जो मनुष्य प्रतिदिन प्रात:काल और संन्ध्या के समय इन बारह ज्योतिर्लिंगों का नाम लेता है, उसके सात जन्मों का किया हुआ पाप इन लिंगों के स्मरण मात्र से मिट जाता है।



              

Sunday, 19 July 2015

Dasha Mugh Deen Ki Bhagwan Samhaloge To Kya Hoga.(दशा मुझ दीन की भगवनसम्भालोगे तो क्या होगा ।)

दशा मुझ दीन की भगवन सम्हालोगे तो क्या होगा ।
अगर मैं  पापी हूँ  तो पापहर तुम हो, ये लज्जा दोनो नामों की,
मिटा दोगे तो क्या होगा।
दशा मुझ दीऩ की।  .........................

यहाँ सब मुझको कहते हैं तू मेंरा है तू मेंरा है,
मैं किसका हूॉ ये झगड़ा तुम मिटा दोगे तो क्या होगा
दशा मुझ दीनं।    .......................,,.....

अजामिल गिद्ध गणिका सभी, जिस दया गंगा में तरते थे,
उसी में बिंदू सा पापी, मिला लोगे तो क्या होगा।
दशा मुझ दीन की ......................... 

Friday, 17 July 2015

Mukh Se Jap Le Om Namah Sivaya( मुख से जप ले ओम नम:शिवाय)

       

          पल पल जीवन बीता जाय 
         मुख से जप ले ओम नम:शिवाय।
         शिव शिवा नाम हृदय से बोलो 
           मन   मंदिर   का  परदा  खोलो   ।
          तेरी  उमरिया निष्फल  जाय ।। मुख से ।।

         ये  दुनिया  माया  का  मेला
        जीव  यहाँ  से  जाय  अकेला ।
        सगे सम्बन्धी सब यही रह जाय।। मुख से ।।

         मुसाफिरी  जब  पूरी  होगी
         चलने की बस मजबूरी होगी ।
         तेरा तन मन धन सब छूटो जाय।। मुख से ।।

           शिव  पूजन में  मस्त बने जा
           भक्ति सुधारस पान किये जा।
            शिव  दिव्य  ज्योति दर्शाय।। मुख से ।।
            पल पल जीवन बीता जाय
             मुख से जप ले ओम नम: शिवाय।


              

Tuesday, 14 July 2015

SankatMochan Hanumanashtak (संकटमोचन हनुमानाष्टक )को नहिं जानत है जग मेंकपि,संकटमोचन नाम तिहारो।

         बाल  समय  रबि  भक्षि  लियो  तब
         तीनहुँ   लोक    भयो    अँधियारो   ।
        ताहि    सों   त्रास  भयो  जग  को
        यह संकट काहु  सों जात न  टारो  ।।
         देवन आनि  करी   बिनती  तब
       छाँड़ि   दियो  रबि  कष्ट  निवारो   ।
      को   नहिं  जानत  है  जग  में  कपि
        संकटमोचन     नाम      तिहारो   ।। को० ।।

       बालि  की  त्रास  कपीस  बसै  गिरि
         जात     महाप्रभु   पंथ    निहारो    ।
       चौंकि  महा  मुनि  साप  दियो   तब
      चाहिय    कौन    बिचार     बिचारो  ।।
      कै  द्विज  रूप    लिवाय    महाप्रभु 
     सो  तुम   दास  के   सोक   निवारो ।।को० ।।

           अंगद के सँग लेन गये सिय 
         खोज कपीस यह बैन उचारो ।
          जीवत ना  बचिहौ   हम सो  जु 
         बिना  सुधि लाए इहाँ पगु  धारो  ।।
        हेरि  थके  तट  सिंधु  सबै  तब लाय
         सिया - सुधि      प्रान      उबारो     ।। को० ।।

        रावन    त्रास  दई    सिय   को   सब 
        राक्षसि    सों   कहि    सोक   निवारो  ।
         ताहि      समय     हनुमान      महाप्रभु 
         जाय      महा       रजनीचर      मारो    ।।
         चाहत     सीय     असोक   सों  आगि  सु
        दै     प्रभु      मुद्रिका    सोक    निवारो   ।। को० ।।

       बान    लग्यो     उर    लछिमन   के    तब
       प्रान     तजे      सुत     रावन       मारो   ।
       लै      गृह      बैद्य      सुषेन     समेत
        तबै     गिरि    द्रोन   सु     बीर      उपारो  ।।
       आनि     सजीवन      हाथ      दई     तब 
       लछिमन     के      तुम       प्रान     उबारो ।। को० ।।

        रावन     जुद्ध    अजान    कियो    तब
        नाग   कि   फाँस      सबै     सिर डारो ।
          श्रीरघुनाथ      समेत      सबै      दल
         मोह     भयो     यह      संकट     भारो ।।
        आनि     खगेस     तबै       हनुमान   जु
         बंधन     काटि        सुत्रास      निवारो  ।। को० ।।

        बंधु    समेत     जबै      अहिरावन 
        लै      रघुनाथ     पताल     सिधारो।
        देबिहिं      पूजि   भली   बिधि  सों   बलि
         देउ     सबै      मिलि     मंत्र       बिचारो  ।।
            जाय     सहाय    भयो     तब       ही 
            अहिरावन     सैन्य    समेत       सँहारो  ।। को० ।।

               काज    किये     बड़    देवन    के    तुम
               बीर      महाप्रभु        देखि       बिचारो ।
                कौन    सो     संकट     मोर     गरीब  को
                जो      तुमसों     नहिं      जात   है    टारो ।।
                 बेगि         हरो       हनुमान        महाप्रभु 
                 जो       कछु      संकट       होय     हमारो ।। को० ।।
                  
                      दोहा---- लाल   देह   लाली   लसै ,  अरु   धरि  लाल   लँगूर   ।
                                   बज्र   देह    दानव   दलन,   जय  जय  जय  कपि  सूर ।।

                       सो०----  प्रनवउँ  पवनकुमार  खल  बन  पावक  ग्यानघन ।
                                  जासु   हृदय   आगार   बसहिं   राम  सर  चाप  घर ।।

                                                ।। इति  संकटमोचन  हनुमानाष्टक  सम्पूर्ण  ।।
        




  

Saturday, 11 July 2015

Shri Krishan Aur Sudama Ki Mitrata (In Hindi) (कृष्ण और सुदामा की मित्रता।) हिन्दी में।

 सुदामा जी श्री कृष्णजी के बचपन के मित्र थे। दोनो संदीपन ऋषि के आश्रम में साथ-साथ पढ़ाई किये थे। सुदामा ब्राह्मन पुत्र थे,
और श्रीकृष्ण राजकुमार थे। दोनो आश्रम में एक ही साथ हकर गुरू से शिक्षा प्राप्त किये थे। दोनों में अटूट प्रेम था।पढ़ाई समाप्त कर दोनो अपने-अपने घर चले गयेथे।
       एक बार पत्नी की इच्छा से सुदामा जी अपने मित्र श्रीकृष्ण से मिलने गये । श्रीकृष्ण उन दिनों द्वारिका के राजा थे।सुदामा जी की पत्नी सुशीला ने श्रीकृष्ण जी के भेंट स्वरूप कुछ टूटे चावल की पोटली (जो पड़ोस से माँगकर लाई थी ) बनाकर सुदामा जी को साथ दिया था। क्योंकि सुदामा जी अत्यन्त गरीब ब्राह्मन थे।सुदामा जी चलते-चलते जब थक गये , तो एक पेड़ के नीचे थकावट दूर करने के लिए थोड़ी देर सो गए। जागते ही विप्र सुदामा को यह जानकर आश्चर्य हुआ कि द्वारिका नगरी आ गई है।क्योंकि प्रभु को सुदामा की दीन अवस्था देखकर दया आ गई , उन्हे लगा सुदामा जी इतनी दूर चल कर कैसे आ पायेंगे इसलिए नींद में ही द्वारिका पहुँचा दिये।

                   सुदामा जी द्वारपाल से पूछे कि क्या यही द्वारिका नगरी है? द्वारपाल ने कहा हाँ। अब सुदामा जी की प्रसन्नता की कोई सीमा नहीं थी।सुदामा जी अब अपने परम मित्र से मिलने वाले थे। द्वारपाल से सुदामा जी विनयपूर्वक कहने लगे, मुझे श्रीकृष्ण से मिलना है भाई, जाकर संदेश दे दो ।द्वारपाल सुदामा जी की दीन हीन अवस्था देखकर कहने लगा, आप कौन हैं?कहाँ  
से आए हैं? तथा आपको श्रीकृष्ण से क्यों मिलना है? तब सुदामा ने कहा मैं उनके बचपन का सखा हूँ । मेरा नाम सुदामा है। मैं वृंदापुरी से आया हूँ। जाकर आप श्रीकृष्ण से बता दीजिये ।सुदामा जी की बात सुनकर द्वारपाल को बहुत आश्चर्य हुआ , फिर भी वो श्रीकृष्ण जी से उसी क्षण महल में सुदामा जी का संदेस देने गया। द्वारपाल ने श्रीकृष्ण से कहा प्रभु द्वार पर एक अत्यन्त गरीब विप्र आया है। तन पर वस्त्र नहीं है, धोती भी जगह-जगह से फटी हुइ है।सर पर टोपी नहीं है, नंगे पाँव है। ग़रीबी के कारन शरीर भी अत्यन्त झुका हुआ है और अपना नाम सुदामा बतलाता है।कहता है वो आपके बचपन का मित्र है।

                     द्वारपाल के मुख से सुदामा नाम सुनते ही प्रभु तत्क्षण द्वार की तरफ़ दौड़ पड़े।आदर सहित सुदामा को भवन में लाकर अपने आसन पर बैठाया। उनकी दीन अवस्था देखकर प्रभु के आँखों से आँसु बहने लगे, अपने आँसु से प्रभु ने सुदामा जी के चरन धोए।नवीन वस्त्र पहनाए।अपने साथ भोजन कराया।दोनो मित्र बचपन की यादों में खो गए। श्रीकृष्ण ने कहा आपकी भाभियाँ भी आपके दर्शन करना चाहती हैं।सुदामा जी ने कहा हाँ उन्हे बुला लो , मैं भी उनके दर्शन करना चाहता हूँ।इतना कहना था कि भाभियों की लाइन लग गई। सुदामा जी ब्राह्मण थे, इसलिए एक -एक कर सभी भाभियाँ उनसे आशीर्वाद लेने लगी।सुदामा जी आशीष देते देते अब थकने लगे।कृष्ण जी से पूछा ,भाई और कितनी हैं? श्रीकृष्ण ने मुस्कुराते हुए कहा पूरे सोलह हजार एक सौ आठ ।सुदामा जी के होश उड़ गए, उन्होंने कहा मैं आपको ही आशीर्वाद दे देता हूँ,भाभियों को अपनेआप आशीष मिल जायेगा।कृष्णजी हँसकर बोले हाँ यही ठीक है।पुनः बिनोद करते हुए सुदामा जी से पूछने लगे ,कहो मित्र तुम्हारी शादी हुई या नहीं? सुदामा ने कहा हाँ हो गई।आपकी भाभी का नाम सुशीला है। श्रीकृष्ण ने हँसते हुए कहा , मुझे शादी में तुमने क्यों नहीं बुलाया? सुदामा जी मुस्कुराते हुए बोले हाँ मित्र मुझसे बड़ी भूल हो गई। ये भूल मैंने सिर्फ़ एक बार किया परन्तु आपने सोलह हज़ार एक सौ आठ बार बिबाह रचाकर, मेरे लिए कितनी बार निमंत्रण पत्र भेजा ।कृष्णजी शरमा गए।

                इसी तरह दोनों मित्र विनोद करते रहे और अपने बचपन की बात याद करते रहे।फिर श्रीकृष्ण ने पूछा, भाभी ने हमारे लिये भेंट में क्या भेजा है? कुछ तो भेजा ही होगा ?सुदामा जी शर्म से चावल की पोटली छुपा रहे थे। श्रीकृष्ण की महारानियों के सामने एवं महल की ठाट-बाट से वे सकुचा रहे थे।कृष्णजी भी कहाँ मानने वाले थे। सुदामा जी को पोटली बगल में छिपाते हुए उन्होंने देख लिया था,इसलिए स्वयं उनसे हठ करके चावल की पोटली ले लिए और प्रेम से पोटली का चावल खाने लगे।एक-एक कर जब दो मुटठी चावल खा लिए और तीसरी मुट्ठी खाने ही वाले थे, कि रुक्मिणि जी ने प्रभु का हाथ पकड़ते हुए कहा , प्रभु आप भाभी का भेजा हुआ भेंट स्वयं ही खा लेंगे या हमारे लिए भी कुछ बचायेंगे? रुक्मिणि जी जानती थी, प्रभु ने दो मुट्ठी चावल खाकर सुदामा जी को दो लोक तथा समस्त ऐश्वर्य प्रदान कर दिया है,यदि प्रभु तीसरी मुट्ठी भी खा लेंगे तो अपना तीसरा लोक भी प्रदान कर देंगे।इसलिये उन्होंने प्रभु का हाथ बहाने से रोक दिया।सुदामा जी की निश्छल भक्ति तथा अनन्य प्रेम देखकर श्रीकृष्ण ने भाव विह्वल होकर सुदामा के दो मुट्ठी चावल के बदले सुदामा जी का सोया भाग्य जगाया था।


------------------------------
More Articles : 

Friday, 10 July 2015

Hanuman Jee Ke (12) Dwadas Nam ( हनुमान जी के बारह नाम ।)

        

        १ .      हनुमान


          २  .   अंजनी  पुत्र


          ३ .   वायु पुत्र


           ४.   महाबल


          ५ .    रामेष्ट


           ६ .   फाल्गुन  सखा


            ७ .   पिंगाक्ष


              ८.    अमित विक्रम 


               ९.   उदधिक्रमण


                १० .   सीता  शोक  विनाशन


                 ११ .   लक्ष्मण  प्राण  दाता


              १२.   दस  ग्रीव  दर्पहा

Tuesday, 7 July 2015

Shri Hanuman Chalisa (श्रीहनुमान चालीसा ।)हिन्दी में।

                     

                        ।।     दोहा    ।।
   श्रीगुरू  चरन  सरोज रज , निज  मनु मुकुरु  सुधारि  ।
   बरनउँ  रघुबर  बिमल जसु , जो  दायकु  फल  चारि  ।।
      बुद्धिहीन    तनु  जानिके ,  सुमिरौं  पवन -कुमार  ।
    बल  बुधि  बिद्या  देहु  मोहिं , हरहु  कलेस  बिकार  ।।

                    ।।    चौपाई   ।।

        जय   हनुमान  ज्ञान  गुन  सागर   ।   जय  कपीस   तिहुँ  लोक  उजागर ।।
       राम   दूत   अतुलित  बल   धामा  ।   अंजनि - पुत्र     पवनसुत   नामा   ।।
       महाबीर       बिक्रम     बजरंगी    । कुमति    निवार   सुमति   के  संगी  ।।
       कंचन     बरन    बिराज   सुबेसा  । कानन     कुंडल     कुंचित   केसा   ।।
       हाथ   बज्र   अरु   ध्वजा  बिराजै  । काँधे    मूँज     जनेऊ      साजै      ।।
          संकर       सुवन     केसरीनंदन । तेज     प्रताप   महा   जग   बंदन    ।।
       बिद्यावान     गुनी    अति     चातुर। राम    काज    करिबे   को  आतुर   ।।
       प्रभु   चरित्र    सुनिबे   को  रसिया। राम   लखन   सीता    मन   बसिया  ।।
        सूक्ष्म  रूप   धरि  सियहिं  दिखावा । बिकट   रूप   धरि   लंक  जरावा   ।         
       भीम    रूप   धरि   असुर   सँहारे   ।  रामचन्द्र     के    काज    सँवारे    ।।
       लाय     सजीवन     लखन  जियाये।  श्रीरघुबीर    हरषि    उर    लाये   ।।
       रघुपति     कीन्ही    बहुत     बड़ाई ।  तुम   मम   प्रिय   भरतहि  सम  भाई।।
       सहस   बदन   तुम्हरो    जस   गावैं ।  अस  कहि   श्रीपति   कंठ    लगावैं ।।
        सनकादिक      ब्रह्मादि      मुनीसा।  नारद      सारद     सहित     अहीसा  ।।
        जम     कुबेर    दिगपाल  जहाँ   ते।  कबि   कोबिद   कहि   सके  कहाँ  ते ।।
       तुम     उपकार     सुग्रीवहिं  कीन्हा  ।   राम     मिलाय   राज    पद    दीन्हा ।।
       तुम्हरो   मन्त्र     बिभीषन     माना    ।  लंकेस्वर   भए     सब     जग   जाना ।।
       जुग     सहस्र     जोजन  पर  भानू  ।  लील्यो   ताहि    मधुर    फल   जानू   ।।
       प्रभु     मुद्रिका   मेलि    मुख   माहीं ।  जलधि   लाँघि   गये    अचरज  नाहीं  ।।
       दुर्गम   काज     जगत     के    जेते ।     सुगम     अनुग्रह       तुम्हरे      तेते  ।।
        राम     दुआरे       तुम     रखवारे  ।     होत    न     आज्ञा      बिनु    पैसारे  ।।
      सब     सुख     लहै   तुम्हारी   सरना।   तुम     रच्छक     काहू     को     डरना ।।
      आपन     तेज       सम्हारो     आपै  ।   तीनों     लोक     हाँक     तें      काँपै   ।।
     भूत    पिसाच    निकट   नहिं   आवै  ।   महाबीर      जब      नाम      सुनावै     ।।
       नासै    रोग     हरै    सब      पीरा   ।   जपत      निरंतर      हनुमत      बीरा   ।।
        संकट    तें       हनुमान     छुड़ावै   ।   मन   क्रम    बचन    ध्यान   जो   लावै  ।।
       सब      पर     राम    तपस्वी  राजा  ।   तिन   के    काज   सकल   तुम   साजा ।।
        और     मनोरथ   जो   कोइ   लावै  ।   सोइ    अमित     जीवन     फल    पावै   ।।
        चारों     जुग     परताप      तुम्हारा ।    है     परसिद्ध       जगत      उजियारा    ।।
    साधु     संत     के     तुम     रखवारे   ।    असुर     निकंदन      राम      दुलारे     ।।
   अष्ट      सिद्धि     नौ   निधि  के   दाता ।   अस     बर   दीन     जानकी       माता ।।
        राम      रसायन      तुम्हरे     पासा  ।    सदा     रहो     रघुपति    के    दासा  ।।
     तुम्हरे       भजन      राम     को   पावै  ।  जनम     जनम     के     दुख    बिसरावै ।।
      अंत      काल       रघुबर    पुर   जाई ।   जहाँ      जन्म     हरि- भक्त      कहाई   ।।
    और       देवता       चित्त     न     धरई  ।   हनुमत      सेइ      सर्ब      सुख  करई  ।।
    संकट     कटै      मिटै       सब     पीरा  ।   जो     सुमिरै      हनुमत      बलबीरा   ।।
     जै      जै      जै      हनुमान      गोसाईं  ।  कृपा     करहु     गुरू      देव   की   नाईं ।।
    जो    सत      बार     पाठ    कर   कोई   ।    छूटहि     बंदि     महा      सुख     होई  ।।
   जो      यह      पढ़ै      हनुमान     चालीसा।     होय     सिद्धि      साखी      गौरीसा    ।।
   तुलसीदास           सदा        हरि      चेरा ।     कीजै       नाथ       हृदय     महँ     डेरा ।।

                                              -----   दोहा-----

                         पवनतनय     संकट    हरन ,  मंगल    मूरति    रूप     ।
                         राम  लखन  सीता   सहित ,  हृदय  बसहु   सुर   भूप  ।।

                                                    ।।  इति  ।।